​​Branded Gupshup

Magazine

Every brand has a story...

कल्पना एवं वास्तविक्ता 

Written By Neetu Arora 18/04/2016
कितना सुन्दर शब्द है 'कल्पना'. इंसान वास्तविक्ता से परे कल्पना के संसार में इतना सुन्दर घर बना लेता है कि बस उसी में जीना चाहता है. उसकी आधी उम्र तो कल्पना में ही निकल जाती है. इंसान कल्पना में सब कुछ सुन्दर एवं अपनी पसंद से देखता है. 

'वास्तविक्ता' एक ऐसा शब्द है जो हमारी ज़िन्दगी की सही परिभाषा है, जिसमे रहना ही सच्चाई है. जीवन क्या है, ना कोई समझ सका है और ना ही समझेगा. ऐसा लगता है कि जीवन जिये जा रहे हैं बेमकसद. 

हमें अपने जीवन को वास्तविक ही रखना चाहिए. चाहे जो हो, अपने जीवन को सुन्दर बनाने के लिए जी तोड़ मेहनत करनी चाहिए. अपना लक्ष्य तय कर, अपनी कल्पनाओं को वास्तविक्ता के संसार में लाना चाहिए. यही जीवन की पूर्ण परिभाषा है. 

Everyday I wake up, I have a dream for myself

As soon as we start talking, one question which everybody starts asking us is "What do you want to become when you grow up?" We spend our childhood and growing up years pondering over this but when we have to take a decision, our confusion is no lesser.
Read More  

जीवन की परिभाषा 

कभी आशा, कभी निराशा, इसी को ही जीवन कहते  हैं. जीवन क्या है? ईश्वर द्वारा दिया हुआ वरदान, हम उसे कैसे जीये ये हम पर निर्भर करता है.